Header Ads

अगर आपका मन पढ़ाई में नहीं लगता, तो अपनाइए ये सरल तकनीक



अगर आपका मन पढ़ाई में नहीं लगता, तो अपनाइए ये सरल तकनीक



कॉलेज के छात्रों द्वारा अपने स्टडी पर फोकस करना एवं अपने आप को भटकाव से दूर रखते हुए अपना मन पढ़ाई में लगाना बहुत जरुरी है. अपनी प्रतिभा के विकास के साथ साथ छात्रों का मुख्य उद्देश्य अधिकतम मार्क्स प्राप्त करना होता है. इसके लिए आपको सबसे पहले अपने आप को फोकस करना पड़ेगा तथा अपने आप को विचलित होने से रोकना पड़ेगा. यदि आप घंटों पढ़ाई करते हो और आपके समझ में कुछ भी नहीं आता तो आपकी सारी मेहनत बेकार है. अतः ऐसी परिस्थितियों में आपको अपनी मेमोरी बढ़ाने के साथ साथ अपने ध्यान को केन्द्रित करने की आवश्यक्ता है. इस कार्य में आपकी मदद के लिए कुछ  महत्वपूर्ण सुझाव यहाँ दिए गए हैं.
Effective Technique for improving concentration power and to avoid distractionsस्टेमिना बढ़ाएं – शारीरिक शक्ति के विकास की तरह ही निरंतर प्रयास से मानसिक शक्ति का विकास भी किया जा सकता है. अपनी मानसिक स्टेमिना बढ़ाने के लिए एक विशेष समय निर्धारित करें तथा एक निश्चित समय में एक ही कार्य पर फोकस करे. शुरुआत में अपना टारगेट छोटा रखें एवं धीरे धीरे उसे बढ़ाते जाएं.कुछ दिनों बाद आप खुद महसूस करेंगे कि आपके मानसिक स्टेमिना में विकास हुआ है तथा अब आप पहले के वनिस्पत कम विचलित होते हैं और आपका मन पढ़ाई में धीरे धीरे पहले की अपेक्षा ज्यादा लगने लगा है.
पढ़ते समय अन्य तथ्यों पर कम ध्यान दें –अपनी पढ़ाई करते समय हम इंटरनेट  की अन्य रोचक ख़बरों की जानकारी पढ़ते पढ़ते थक जाते हैं और जब अपने सिलेबस की बात आती है, तो उसमे हमारा मन नहीं लगता. अतः शुरू में पहले लगभग 30 मिनट तक अपना विषय पढ़ें और मोबाइल तथा इंटरनेट आदि का इस्तेमाल नहीं करें.
Effective Technique for improving concentration power and to avoid distractionsएक साथ कई कार्य करने से बचें – हमारा दिमाग एक समय में एक ही काम सही ढंग से कर सकता है. अतः अगर किसी भी काम को परफेक्ट तरीके से करना है तो आप एक समय में एक ही कार्य करने की कोशिश कीजिये.एक समय में  एक चीज पर फोकस करके अपने टारगेट को बड़ी आसानी से प्राप्त किया जा सकता है.
कमियों को जानने की कोशिश करें – अगर आप कोई काम कर रहे हैं और आपको उसमें सफलता नहीं मिल रही है तो आप यह जानने कि कोशिश करें कि कमी कहाँ है ? और उसे दूर करने का प्रयत्न करें. अगर आप ऐसा नहीं करते तो आपको सफलता कभी नहीं मिलेगी, जो आपके भटकाव का एक मुख्य कारण होगा. उदाहरण के लिए अगर किसी दिन आपने अपने मित्रों पर कुछ अधिक पैसे खर्च कर दिए जिसके कारण आपको आगे चलकर आर्थिक तंगी झेलनी पड़ी, तो अगली बार आप सोच समझकर उन पर पैसे खर्च करें. इसी प्रकार फेसबुक या किसी अन्य साईट पर चैट के कारण आपका समय बर्बाद हो गया तथा आप अपना टास्क एक निश्चित समय में नहीं करने के कारण टेंशन में आ गए तो आपको अगली बार ऐसा करते समय बहुत सोचना चाहिए तथा अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहिए.
एक पूर्व निर्धारित दिनचर्या बनाएं – एक पूर्व निर्धारित दिनचर्या के अनुसार कार्य करने से सभी काम समय पर स्वतः ही समाप्त हो जाते हैं और टेंशन भी नहीं होता है. लेकिन दिनचर्या बानाने मात्र से काम नहीं चलता उस पर अमल भी सख्ती के साथ करना पड़ता है. अतः अपनी क्षमता के अनुरूप दिनचर्या बनाएं और उसका  पालन करें. अपने नियमित रूटीन के अंतर्गत आप निम्नांकित बिन्दुओं को शामिल कर सकते हैं.
पर्याप्त नींद लेना – आप समय पर सोने और उठने की आदत डालें. ऐसा करने से आपको थकान कम महसूस होगी तथा आप हमेशा तरोतजा फिल करेंगे.
पौष्टिक नाश्ता  पौष्टिक नाश्ते या भोजन से आप पूरे दिन उर्जावान बने रहते हैं. इसलिए हमेशा पौष्टिक भोजन करें. नाश्ते में ओटमील या गेहूं की रोटी,अंडे, फल या हरी शब्जी एवं दूध का सेवन करें.
नियमित  योग एवं व्यायाम करें  व्यायाम से तन और मन दोनों स्वस्थ्य रहता है. अतः नियमित व्यायाम की आदत डालें. योग में मन को स्थिर रखने के लिए कई आसन तथा प्राणायाम बताए गए हैं जिन्हें आप अपनी शारीरिक क्षमता तथा प्रवृति के अनुसार कर सकते हैं. इसके लिए आप नियमित रूप से पद्मासन, योग मुद्रा, बज्रासन, अनुलोम विलोम प्राणायाम, भ्रामरी उद्गीत प्राणायाम कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त अगर आपके पास समय हो तो आप नियमित रूप से अपने स्वांश,प्रस्वांश को देखने के अभ्यास के जरिये कुछ समय तक ध्यान कर सकते हैं. इससे आपका चित्त बड़ी जल्दी स्थिर हो जायेगा और आपका मन पढ़ाई में लगने लगेगा.
कैफीन के सेवन से बचें – यह बात सही है कि सुबह में एक कप चाय लेने से चुस्ती फुर्ती महसूस होती है लेकिन इसके अधिकतम सेवन से माइंड प्रसुप्त होता है तथा अच्छी नींद नहीं आती जो आगे चलकर आपके ध्यान को केन्द्रित करने में बाधा पहुंचाएगा.
अपने कार्यों की सूची बनाएं  - एक कार्य सूची बनाकर किये गए कार्यों के परिणाम तथा नहीं किये गए कार्यों की योजना का विश्लेषण करें. इससे आपको अपनी उपलब्धियों और कमियों का पता चलेगा. अगले दिन अपने निश्चित कार्यों को पूरा करने में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहें. अगर आपको ऐसा लगता है कि यह काम मैंने बहुत अच्छा किया है तो आप अपनी सराहना करने से भी नहीं चुके.
अतः किस चीज पर फोकस करना कोई कठिन काम नहीं है. लेकिन हाँ इसके लिए निरंतर अभ्यास की दृढ इच्छा शक्ति का होना अति आवश्यक है. अगर आपका मन पढ़ाई में नहीं लगता तो अपनाइए ऊपर दिए गए टिप्स को. यकीन मानिए इसका असर आपको कुछ ही हफ्ते में दिखाई देने लगेगा.

Sharing is Caring...
Powered by Blogger.