Header Ads

चाहिए अगर केंद्रीय मंत्रालयों (SSC CGL) में JOB तो इन 10 चीजों से बचें



चाहिए अगर केंद्रीय मंत्रालयों (SSC CGL) में JOB तो इन 10 चीजों से बचें


SSC CGL बहुत महत्वपूर्ण परीक्षा है क्योंकि यह आपको विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के तहत एक पूर्ण सरकारी नौकरी देती है। SSC CGL परीक्षा में सफलता पाने के लिए, तैयारी ही एकमात्र कुंजी है। इसलिए, एसएससी की तैयारी व्यवस्थित और समय पर होनी चाहिए। कई छात्र हैं, जो बहुत कठिन अध्ययन करते हैं, लेकिन परीक्षा कक्ष में इसे उत्तीर्ण करने में विफल होते हैं। इसके पीछे क्या कारण हैं?
इस अनुच्छेद में, हम इन कारणों और SSC CGL परीक्षा की तैयारी में कमी के बारे में चर्चा करेंगे।
SSC CGL परीक्षा में असफल करने वाली चीजें
अत्यधिक अध्ययन सामग्री
तैयारी के लिए हर एक किताब, ऐप और वेबसाइट से अध्ययन करना| खासकर जब सामान्य ज्ञान की बात आती है यह देखा गया है कि छात्र सामान्य ज्ञान के उपविषयों जैसे इतिहास, भूगोल, राजनीति, अंग्रेजी शब्दावली आदि को पढने के लिए कई पुस्तकों और कई ऑनलाइन ऐप्स को खरीदते व डाउनलोड करते है। इसके अलावा, वे विभिन्न प्रकाशनों के प्रश्न बैंकों की एक कभी न खत्म होने वाली सूची, शहर में कोचिंग संस्थानों के प्रिंट-आउट या पीडीएफ या हाथ-लिखित अध्ययन नोट्स को भी संदर्भित करते थे, । हमेशा याद रखें कि आप अपने दिमाग में सब कुछ सामूहिक रूप से नहीं रख सकते। इसलिए, केवल एक गुणवत्ता वाली पुस्तक, एक प्रश्न बैंक और एक वेबसाइट या ऑनलाइन ऐप को चुनें और यही सही नीति है। जितना अधिक आप ध्यान केंद्रित करके इन्हें पढ़ेगे, उतना ही आपको लाभ होगा।
ऑनलाइन Mock टेस्ट्स का अभ्यास न करना
ऑफ़लाइन मॉक टेस्ट का अभ्यास करने से आप ऑनलाइन परीक्षा का उचित रूप से समझ नहीं पाएंगे| ऑफ़लाइन परीक्षा में, आप बिना किसी रुकावट के अधिकांश प्रश्नों को आसानी से हल कर सकते हैं, जिससे उच्च अंक और अधिकतम प्रश्नों को हल कर सकते हैं। हालांकि, ये कारक ऑनलाइन परीक्षा के साथ समान नहीं हैं ऑनलाइन परीक्षा में, उत्तरों की समीक्षा करना और उन्हें क्रॉस चेक करना बहुत मुश्किल है क्योंकि अगर आप ऐसा ऑनलाइन परीक्षा में करते है तो कई अन्य प्रश्नों को हल नहीं कर पाएंगे| अत: ऑनलाइन मोक्क टेस्ट्स का अभ्यास आपको ऑनलाइन एसएससी की परीक्षा में अधिकाधिक प्रश्नों को हल करने में सक्षम बनता है जैसा कि ऑफलाइन परीक्षा में होता है|
टाइम टेबल का अभाव
हमने बहुत छात्र देखे हैं जो प्रत्येक विषय और उससे संबंधित उप-विषयों के लिए उचित समय सारणी के बिना अध्ययन करते है। अंत में, वे खुद को अनभिज्ञ पाते है| इसलिए, सामायिक तौर पर कठोर अध्ययन करें और समय सारिणी का सख्ती पालन करें। क्योंकि बिना समय सारिणी के तैयारी करने से आप अपने को किसी भी विषय में एक्सपर्ट नहीं मान सकते है. जिसके कारण रिवीजन और अन्य प्रपत्रों का अभ्यास करने का कोई अर्थ नहीं है| समय सारिणी ज्यादा प्रोडक्टिविटी के लिए भी महत्वपूर्ण है|

समय प्रबंधन का न होना
यह पाया जाता है कि अधिकांश अभ्यर्थी परीक्षा में घडी पहने बिना ही कक्ष में प्रवेश करते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि आप परीक्षा हॉल में देर से पहुंच सकते है और निर्धारित वर्गों के लिए समय आवंटित करने में भी विफल हो सकते है। इसके अलावा, आप किसी एक विशेष खंड के साथ झूझने की आदत में न पड़ें और अपने अधिकांश समय को किसी एक अनुभाग को सुलझाने से बचाएं। सफलता तभी सुनिश्चित होती है, जब आप अधिकतम सही उत्तरों के साथ सभी वर्गों के प्रश्नों को हल करेंगे।
अंतिम समय तक पढ़ना
छात्र संचित सामग्री को दोहराने और ऑनलाइन मोक्क टेस्ट्स का प्रयास करने के बजाय परीक्षा के अंतिम क्षण तक नई चीजों को पढ़ते रहते है जिससे वे परीक्षा में हमेशा भ्रमित रहते है| SSC CGL परीक्षा में भी अन्य परीक्षाओं की तरह ही revision का बहुत अधिक महत्व है। अंत समय तक पड़ने से revision का समय नही मिल पाता है जो की स्वाभाविक प्रदर्शन पर असर डालता है।
शॉर्टकट्स का बहुल उपयोग
आप में से अधिकांश  संभवत: यह सोचते है कि शॉर्टकट चालें समय की बचत करने में और बहुत अधिक प्रयासों के बिना सही उत्तर प्राप्त करने में बहुत आवश्यक हैं। हालांकि, यह सच नहीं है क्योंकि अधिक शॉर्टकट ट्रिक्स जमा करना आपको परीक्षा के हॉल में भ्रमित और परेशान कर सकता है जिसके परिणामस्वरूप आवश्यक स्कोर को प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

किसी विशेष विषय को अधिक महत्वता
कुछ छात्रों ने जीके, अंग्रेजी, मात्रात्मक योग्यता और तर्क के बीच में से एक विषय को अधिक महत्व देते है क्योंकि वे केवल उस विषय को प्राथमिकता देते हैं जिस में वे अच्छे हैं और शेष लोगों की उपेक्षा करते हैं। हम इस दृष्टिकोण की अनुशंसा नहीं करते है, क्योंकि यह आपको उसी जगह रखेगा जहाँ से आपने शुरू किया था|
व्यर्थ की चिंता
बहुत कम रिक्तियों की वजह से कई छात्र परीक्षा के लिए तैयारी नहीं करते है| हम आपको बताना चाहते हैं कि एसएससी भर्ती चरण के दौरान किसी भी समय अपनी रिक्तियों को संशोधित कर सकता है। इसलिए, उन चीजों पर ध्यान केंद्रित करना उचित नहीं है, जो आपके नियंत्रण में नहीं हैं जैसे कि प्रश्नों की संख्या, परीक्षा केन्द्रों का आबंटन, आयु सीमाएं और कट ऑफ। बस तैयारी पर ध्यान केंद्रित रखें।
पिछली कटऑफ़ को लक्ष्य बनाना
हर वर्ष, प्रत्येक एसएससी परीक्षा के लिए एक अलग कट-ऑफ निर्धारित होती है। तो, ऐसा मत सोचो कि आपको पिछले SSC CGL परीक्षाओं के औसत कटऑफ से ज्यादा स्कोर करना होगा। इसकी कीमत आपको भुगतनी पड़ सकती है। याद रखें कि आपके लक्ष्य ही आपकी सीमाओं को परिभाषित करते हैं एक आकांक्षी के रूप में आपको यह बात यद् रखनी चाहिए- “Shoot the moon. Even if you miss you’ll still land among the stars.

सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर समय
व्हाट्सएप, ऑनलाइन चैट, फेसबुक, यूट्यूब आदि में खुद को अधिक से ज्यादा शामिल करना भी असफलता का कारण होता है। हम अपने आप को भ्रमित करते हैं कि ये चीजें भी आवश्यक हैं। हमारा यह मानना है कि ये बिल्कुल भी आवश्यक नहीं हैं। यदि आप इंटरनेट का कुशल उपयोग करना चाहते हैं तो हिंदू अखबार या Quora जैसे ऑनलाइन प्लेटफार्म को  पढ़ें व अन्य गतिविधियों में समय बर्बाद करने से बचें|
शुभकामनाएँ!
Powered by Blogger.