Header Ads

जानें-एसएससी सीजीएल के अधिकारियों को कैसे प्रमोट (पदोन्नति) किया जाता है?

जानें-एसएससी सीजीएल के अधिकारियों को कैसे प्रमोट (पदोन्नति) किया जाता है?

एसएससी सीजीएल ऑनलाइन परीक्षा के लिए आवेदन करने से पहलेउम्मीदवारों के मतिष्क में जो सवाल उठता है वह है वरीयता और इसके साथ जुड़ी पदोन्नति संबंधित आकांक्षा। जैसा कि हम जानते हैंकि एसएससी आपको एक राजपत्रित अधिकारी होने का एक अवसर देता है। इसलिए उम्मीदवारों को प्रत्येक पद के बारे में उचित नॉलेज होने की आवश्यकता है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम सब एसएससी सीजीएल के पदों पर चर्चा करेंगे और उम्मीदारों को इस जॉब में उनके आगे के भविष्य के बारे में विवरण और इसमें मिलने वाले अवसरों के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। इस विश्लेषणात्मक आर्टिकल का अध्ययन करने के बाद आप आसानी से अपनी पसंद तय कर सकते हैं:
1. इंस्पेक्टर परीक्षक (सीबीईसी)
एक निरीक्षकएक परीक्षक होता है जिसे माल की जांच करनी होती है और बंदरगाह के अंदर आने -जाने वाले माल पर लगे करों को सत्यापित करना होता है।
पदोन्नति के क्रम में:
मूल्यांक (ग्रुप- बी राजपत्रित अधिकारी) -सहायक आयुक्त -उपायुक्त -संयुक्त आयुक्त -आयुक्त
पहली पदोन्नति 3 साल की सेवा पूरी होने के बाद मिलती है। इस पद को अन्य सभी पदों में सबसे अच्छा माना जाता है।
2. आयकर निरीक्षक (आईटीआई)
आयकर निरीक्षक का कार्य व्यक्तियों और व्यवसायों की आयकर प्रक्रिया का रिकॉर्ड सत्यापित करना तथा उनकी जांच करना है। वे व्यक्तियों और व्यवसायों के आयकर रिकॉर्ड का आंकलन कर सत्यापित करते हैं। इनके उपर टैक्स में परिवर्तन करने और स्रोत (टीडीएस) घटाने की जिम्मेदारी होती है।
पदोन्नति का क्रम:
आयकर अधिकारी -सहायक आयुक्त -उपायुक्त -संयुक्त आयुक्त -अपर आयुक्त -आयुक्त
पहली पदोन्नति सेवा के साल पूरा करने पर विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद दी जाती है। नियमों के अनुसार निर्धारित योग्यता रखने वाले एक व्यक्ति को साल के भीतर आईटीओ के रूप में पदोन्नत किया जा सकता है।
3. प्रिवेंटिव ऑफिसर
प्रिवेंटिव ऑफिसर का कार्य जानकारी एकत्रित करना तथा कदाचार की जानकारी मिलने पर उसे रोकने के लिए सुधारात्मक कार्रवाई करना है।
प्रमोशन (पदोन्नति) का क्रम:
सीमा शुल्क अधीक्षक -सहायक आयुक्त -उपायुक्त -आयुक्त
पहली पदोन्नति सेवा के 8 साल पूरा होने पर विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद दी जाती है।
निवारक अधिकारी और आबकारी इंस्पेक्टर के बीच अंतर: नौकरी प्रोफ़ाइल
4. केंद्रीय आबकारी निरीक्षक (सीबीईसी)
एक सीबीईसी इंस्पेक्टर का कार्य कंपनियों द्वारा भरे जा रहे टैक्स रिटर्न का निरीक्षण करना और उनके द्वारा भरे जा रहे टैक्स को सत्यापित करना है।
प्रमोशन (पदोन्नति) का क्रम:
अधीक्षक -सहायक आयुक्त -उपायुक्त -आयुक्त
पहली पदोन्नति सेवा के 8 साल पूरा होने पर विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद दी जाती है।
5.सब इंस्पेक्टर (उप निरीक्षक) (सीबीआई)
उप निरीक्षक का कार्य भ्रष्टाचार के मामलों और अन्य अपराधों की जांच करना है।
प्रमोशन (पदोन्नति) का क्रम:
 निरीक्षक (इंसपेक्टर) (कम से कम 5 साल के बाद) -उपाधीक्षक (डिप्टी सुपरीटेंडेट) (10-12 साल के बाद) -अधीक्षक (सुपरीटेंडेट) (5-7 साल के बाद) -वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (वरिष्ठ सुप्रीटेंडेट)
6.सहायक अनुभाग अधिकारी (असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर) (सीएसएस)
सहायक अनुभाग अधिकारी का कार्य आमतौर पर नोट्स तैयार करनारिपोर्ट बनाना आदि है तथा इसे अपने वरिष्ठ अधिकारियों के पास भेजना होता है।
प्रमोशन (पदोन्नति) का क्रम:
अनुभाग अधिकारी (विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल होने पर 5 वर्षों में,  सामान्यत: 10 वर्षों में) -अवर सचिव (सेवा के4 साल पूरा करने के बाद)- -उप सचिव निदेशक
सीएसएस में सहायक की प्रमोशन नीति
7. डीविजनल (विभागीय) एकाउंटेंट (सीएजी)
डीविजनल (विभागीय) एकाउंटेंट का कार्य राज्य सरकार द्वारा शुरू की गयी परियोजनाओं के व्यय का आडिट करना होता है।
प्रमोशन (पदोन्नति) का क्रम :
संभागीय लेखा अधिकारी II -> संभागीय लेखा अधिकारी I -> सीनियर डिवीजनल लेखा अधिकारी
8- विदेश मंत्रालय में सहायक (MOEA)- जनरल
विदेश मंत्रालय में सहायक (MOEA)- जनरल का कार्य केवल प्रशासनिक कार्यों को करना होता हैइनमें शामिल हैं: वर्तमान घटनाओं के अपडेट्स पर रिपोर्ट बनानाटाइपिंगऔर फाइलों को मेंटेन करना आदि । आपको अपनी ज्वॉइनिंग के 1.5 से2.5 साल के भीतर विदेशों में पोस्टिंग का मौका मिल सकता है।
(विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल किये बिना) 15-17 वर्षों में प्रमोशन
8 साल में प्रमोशन (विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद)
9- विदेश मंत्रालय (MOEA) में सहायक - साइफर
विदेश मंत्रालय (MOEA) में एक सहायक - साइफर का कार्य इंटरनेट के माध्यम से भेजी जाने वाली गोपनीय फ़ाइलों और डेटा की डिकोटिंग करना है।  मंत्रालय में शामिल होने के छह साल के भीतर विदेश में पोस्टिंग का मौका मिलता है।
पदोन्नति का क्रम:
5 साल में प्रशासनिक अधिकारी का सहायक (विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद)-प्रशासनिक अधिकारी से अवर सचिव (आईएफएस) 8 साल -अवर सचिव से उप सचिव (8 वर्ष) -उप सचिव से निदेशक (6 वर्ष) -निदेशक से सचिव संयुक्त सचिव (4 वर्ष)।
10. सहायक प्रवर्तन अधिकारी (AEO)
इस पद के कार्य एक इंस्पेक्टर की तरह होते हैं जिसमें मनी लांड्रिग पर रोक लगानाजालसाजी रोकनाघरों और कार्यालय परिसर में छापे और गिरफ्तारी करने जैसे कार्य शामिल हैं।
पदोन्नति का क्रम:
प्रवर्तन अधिकारी -सहायक निदेशक -उप निदेशक -निदेशक
यहाँ पदोन्नति की कोई निश्चित अवधि नहीं है।
11.सहायक (रेल मंत्रालय)
इस पोस्ट में लगभग एक अपर डिवीजन क्लर्क जैसी जिम्मेदारी होती है। 
पदोन्नति का क्रम :
अनुभाग अधिकारी (विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल किए बगैर 7-8 वर्षों मेंयदि सफलता हासिल होती है तो 5-6 साल के भीतर -अवर सचिव -उप सचिव -निदेशक
रेल मंत्रालय में सहायक की भूमिकाएं और जिम्मेदारियां 
12. इंस्पेक्टर (डाक विभाग)
एक डाक निरीक्षक (पोस्टल इंस्पेक्टर) के ऊपर उसके उपखंड के तहत आने वाले लगभग 60-70 डाकघरों की जिम्मेदारी होती है। उसका कार्य उसके तहत आने वाले डाकघरों के कारोबार के विस्तार की दिशा में काम करना हैं और उसे दो विदेशी मेल द्वारा सहायता प्रदान की जाती है। इसके साथ हीवह ग्रामीण डाक सेवकों का साक्षात्कार भी लेता है।
पदोन्नति का क्रम:
सहायक अधीक्षक (विभागीय परीक्षा में सफलता हासिल करने के पांच साल बाद) -डाक अधीक्षक -वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक 
13. ऑडिटर - नियंत्रक एवं भारत के महालेखा परीक्षक (सीएजी)रक्षा लेखा महानियंत्रक (सीजीडीए)महालेखा नियंत्रक (सीजीए)
एक लेखा परीक्षक राज्य विभागों (सीएजी)रक्षा बलों (सीजीडीए) और भारत के सामान्य खातों (सीजीए) के खातों के व्यय रिपोर्ट का आडिट करता है।
पदोन्नति का क्रम:
वरिष्ठ लेखा परीक्षक (सेवा के 3 साल के बाद) -एएओ (सेवा के 2 साल बाद और विभागीय परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के बाद)
14. इंस्पेक्टर - केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो (सीबीएन)
एक इंस्पेक्टर प्रतिबंधित मादक पदार्थों के आयात / निर्यात पर पर नज़र रखता है और इस पर प्रतिबन्ध लगाता है और यह सुनिश्चत करता है कि प्लांट्स का इस्तेमाल कहीं अवैध रूप से तो नहीं हो रहा हैं।
पदोन्नति का क्रम :
नारकोटिक्स अधीक्षक (सुप्रीटेंडेट) -सहायक नारकोटिक्स आयुक्त -उप नारकोटिक्स आयुक्त -नारकोटिक्स आयुक्त
15. सब-इंस्पेक्टर - सीबीएन
सब-इंस्पेक्टर (उप निरीक्षक) (सीबीएन) का काम लगभग उसी प्रकार का है जो एक सीबीएन में इंस्पेक्टर का होता है।
पदोन्नति का क्रम :
इंस्पेक्टर -नारकोटिक्स अधीक्षक -सहायक नारकोटिक्स आयुक्त -उप नारकोटिक्स आयुक्त -नारकोटिक्स आयुक्त
16. सब -इंस्पेक्टर - राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए)
एनआईए राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर कार्य करती हैजिसमें यात्रासबूतों को एकत्र करनाआतंकवादी हमलों के बाद या उससे पहले जानकारी एकत्र करना आदि शामिल है।
पदोन्नति का क्रम :
निरीक्षक (कम से कम 5 साल के बाद) -उपाधीक्षक -अधीक्षक
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) में उप निरीक्षक का नौकरी प्रोफाइल और प्रमोशन नीति
17. सांख्यिकीय अन्वेषक (स्टेटिकल इनवेस्टिगेटर) -द्वितीय
सांख्यिकीय अन्वेषक का कार्य डेटा संग्रह करना और सरकार द्वारा लागू की जा रही योजनाओं का मूल्यांकन करना तथा सरकारी विभागों को आवश्यक जानकारी प्रदान करना है
पदोन्नति का क्रम :
वरिष्ठ सांख्यिकीय अधिकारी -सहायक निदेशक -उप निदेशक -संयुक्त निदेशक
18सीबीडीटी और सीबीईसी में कर सहायक (केंद्रीय प्रत्यक्ष कराधान बोर्ड और केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क कराधान बोर्ड)
सीबीडीटी कर सहायकवस्तुओं और सेवाओं से संबंधित जानकारीएक व्यक्ति या व्यापार इकाई के करों का आकलन कर इसकी पुष्टि या इसमें संशोधन का कार्य करते हैं।
पदोन्नति का क्रम:
वरिष्ठ कर सहायक (3 वर्ष) -आबकारी निरीक्षक (3-4 वर्ष) - आयकरअपर आयुक्त -अधीक्षक / मूल्यांक -सहायक आयुक्त -उपायुक्त -संयुक्त कर आयुक्त
19- केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) में सहायक
सीवीसी केंद्र सरकार के विभिन्न विभागों द्वारा संचालित होने वाली सभी सीवीसी सभी सतर्कता संबंधी गतिविधियों पर नजर रखता है और रिकॉर्डफाइलों का अपडेट तथा जानकारी इकट्ठा आदि का कार्य करता है।
पदोन्नति का क्रम:
अनुभाग अधिकारी (7-8 साल बाद) -अपर सचिव -उप सचिव -निदेशक
20- खुफिया ब्यूरो (आईबी) में सहायक
इस विभाग में सहायक का कार्य कम्प्यूटर डेटा से संबंधित कार्य होता है।
पदोन्नति का क्रम:
अनुभागीय अधिकारी -अवर सचिव -उप सचिव
21- सशस्त्र बलों के मुख्यालय में सहायक (एएफएचक्यू)
इस पोस्ट में तैनात सहायक का कार्य डूयूटी का प्रबंधन और स्टाफ के सदस्यों के बीच कार्य का वितरण और समन्वय स्थापित करना है।
पदोन्नति का क्रम :
अनुभाग अधिकारी (4 वर्ष के बाद) -उप निदेशक (6 साल के बाद) -संयुक्त निदेशक (5 वर्ष के बाद) -निदेशक (5वर्ष के बाद) -प्रधान निदेशक
22. एकाउंटेट/जूनियर अकाउंटेट (लेखाकार) सीजीए और कैग (भारत के महालेखा नियंत्रक और नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक)
ये लिपिक का कार्य करते हैंजिनमें विभिन्न कार्य शामिल हैजैसे बिलवेतन भत्ते और कार्यालय का खर्च। इनका कार्य पेंशन और जीपीएफ के मामलों से संबंधित कार्यों का निपटान करना भी है।
पदोन्नति का क्रम :
वरिष्ठ लेखाकार (3 साल के बाद) -सहायक लेखा अधिकारी (एएओ परीक्षा के बाद) -प्रधान लेखा अधिकारी (एएओ 15साल बाद) -वरिष्ठ लेखा अधिकारी
23. अपर डिवीजन क्लर्क (केन्द्रीय सरकार के कार्यालयों / सीएससीएस कैडर के अलावा अन्य मंत्रालयों)
एक अपर डिवीजन क्लर्क का कार्य तथ्यों की जांचत्रुटियों और गलत बयानों का पता लगानानियमों और कानूनों के मामलों आदि में ध्यान आकर्षित कराना है।
पदोन्नति का क्रम:
सहायक अधिकारी -अनुभाग अधिकारी
24. कम्पाइलर (भारत के महापंजीयक)
कम्पाइलर का कार्य सांख्यिकीय डिवीजनों से संबंधित होता है। ये विभिन्न स्रोतों के माध्यम से एकत्रित की गई जानकारी को संकलित करते हैं।
हम लगभग सभी प्रकार की नौकरियों की प्रोफाइल से उनसे पदोन्नति के बारे में विस्तार से चर्चा कर चुके हैं। तोअब आप अपने क्षेत्र और आवश्यकता के अनुसार अपनी पसंद को तय अथवा फिट कर सकते हैं। ये विवरण आपको अपनी पंसद पर वरीयता का विश्लेषण करने के क्रम में एक संक्षिप्त आइडिया दे सकते हैं।
Powered by Blogger.